राज्य
फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं सरकारी स्कूल में पढऩे वाले बच्चे
By Deshwani | Publish Date: 12/2/2018 1:34:06 PM
फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं सरकारी स्कूल में पढऩे वाले बच्चे

नीमच । हर व्यक्ति अपने बच्चों को अंग्रेजी मीडियम के मिशनरी स्कूलों में हजारों रुपए फीस देकर इसलिए प्रवेश दिलाता है कि वह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सके और अच्छी पढ़ाई कर अपना भविष्य बना सके, लेकिन मध्यप्रदेश के नीमच जिले में एक गांव ऐसा भी है, जहां हिन्दी मिडियम के सरकारी स्कूल में कक्षा एक से पांच तक पढऩे वाले बच्चे फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं।

दरअसल, प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का अपने भांजे-भांजियों को अच्छी शिक्षा देने का सपना सरकारी स्कूलों में ही साकार होता नजर आ रहा है। नीमच जिले के सरकारी स्कूल में बच्चे फर्राटेदार अंग्रेजी बोलना सीख रहे हैं। जिले का एक ऐसा सरकारी स्कूल है, जहां पाचवीं कक्षा से लेकर पहली तक के बच्चे अंग्रेजी सीख रहे हैं। अंग्रेजी के सवालों के जवाब अंग्रेजी में ही दे रहे हैं।
जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित गांव छायन का यह स्कूल दूसरे सरकारी स्कूलों के लिए एक मिसाल बन चुका है। प्रतिदिन स्कूल में इन बच्चों को अंग्रेजी बोलने के साथ-साथ लिखने की शिक्षा भी दी जाती है। जनरल नालेज हो या फिर गणित के कठिन सवाल, हर विषय में यह बच्चे सटीक जवाब देते नजर आएंगे। कहीं न कहीं सरकार के स्कूल चले अभियान इस स्कूल की तस्वीर सच साबित होती दिखाई दे रही है। स्कूल में पढ़ाने वाले शिक्षक प्रभारी प्रधानाध्यापक जगदीश चंद्र बोराणा प्रतिदिन बच्चों को कक्षा में अंग्रेजी का पाठ पढ़ाते हैं। गांव छायन के इस सरकारी स्कूल में अब धीरे-धीरे प्राइवेट स्कूलों से मुंह मोडक़र बच्चे सरकारी स्कूल की तरफ रुख कर रहे हैं। वही स्कूल में स्वच्छता अभियान को लेकर भी विद्यार्थियों में काफी जागरूकता दिखाई दे रही है।
 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS