राज्य
लाड़ली शिक्षा पर्व आज, 65 हजार बच्चियों को वितरित की जाएगी छात्रवृत्ति
By Deshwani | Publish Date: 12/10/2017 10:48:04 AM
लाड़ली शिक्षा पर्व आज, 65 हजार बच्चियों को वितरित की जाएगी छात्रवृत्ति

भोपाल, (हि.स.)। मध्यप्रदेश में गुरुवार को 'लाड़ली शिक्षा पर्व' मनाया जा रहा है। इस अवसर पर प्रदेशभर की कक्षा छह में प्रवेश लेने वाली लाड़ली लक्ष्मी योजना के अंतर्गत दर्ज बालिकाओं को छात्रवृत्ति का भुगतान किया जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में गुरुवार को सीएम हाउस पर आयोजित भव्य कार्यक्रम में यह छात्रवृत्ति राशि का वितरण होगा। महिला-बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनिस भी कार्यक्रम को संबोधित करेंगी। इसके अलावा सभी जिला मुख्यालयों तथा शाला स्तरों पर भी लाड़ली शिक्षा पर्व आयोजित किये जाएंगे।

प्रदेश में एक अप्रैल, 2007 से लागू लाड़ली लक्ष्मी योजना के अंतर्गत अब तक 26 लाख से अधिक बालिकाओं का जीयन हो चुका है। लाड़ली शिक्षा पर्व पर कक्षा छह में प्रवेश लेने वाली 65 हजार से अधिक बालिकाओं को 2-2 हजार रूपये छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। बालिकाओं को ई-भुगतान कर प्रमाण-पत्र प्रदान किये जाएंगे। कार्यक्रम में सम्मलित होने वाली बालिकाओं के हीमोग्लोबिन की जाँच होगी तथा उन्हें फेरस एस्कारबेट, विटामिन-सी और बायको-1 की गोलियों का वितरण किया जाएगा। कार्यक्रम में बाल सुरक्षा जैसे विषयों पर लघु फिल्मों के प्रदर्शन की व्यवस्था भी की गई है।
राज्य स्तरीय कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बालिकाओं को प्रात: 11.30 बजे संबोधित करेंगे, जिसका सीधा प्रसारण दूरदर्शन तथा रेडियो से किया जाएगा। जिन जिलों में लाभांवित बालिकाओं की संख्या एक हजार से अधिक है, वहाँ जिला मुख्यालय के साथ-साथ विकासखण्डों को क्लब करके एक से अधिक स्थानों पर कार्यक्रम होंगे। प्रदेश में 147 स्थानों पर कार्यक्रम होंगे।
उल्लेखनीय है कि बालिका जन्म के प्रति जनता में सकारात्मक सोच, लिंग अनुपात में सुधार, बालिकाओं की शिक्षा तथा स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार और उनके अच्छे भविष्य की आधारशिला रखने के उद्देश्य से राज्य शासन द्वारा यह योजना आरंभ की गई। प्रदेश के मूल निवासी माता-पिता जो आयकर दाता न हों, उनकी बालिकाएँ योजना के लिये पात्र हैं। इस योजना में प्रकरण स्वीकृति उपरांत एक लाख 18 हजार रूपये का प्रमाण-पत्र प्रदान किया जाता है। कक्षा 6वीं में प्रवेश पर दो हजार, कक्षा 9वीं में प्रवेश पर 4 हजार, कक्षा 11वीं में प्रवेश पर 6 हजार और कक्षा 12 में प्रवेश पर 6 हजार रूपये का भुगतान ई-पेमेंट के माध्यम से किया जाएगा। बालिका को 21 वर्ष की आयु पूर्ण होने पर एक लाख रूपये दिये जाएंगे। शर्त यह होगी कि बालिका का विवाह 18 वर्ष की आयु से पहले न हो और वह कक्षा 12वीं की परीक्षा में सम्मिलित हुई हो। अब तक योजना में रूपये 5630.57 करोड़ रूपये व्यय किया जा चुका है।
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS