राज्य
मोती की खेती से चमका रहे हैं अपनी किस्मत
By Deshwani | Publish Date: 12/9/2017 4:32:06 PM
मोती की खेती से चमका रहे हैं अपनी किस्मत

 चंदौली। स्वाति नक्षत्र में ओस की बूंद सीप पर पड़े, तो मोती बन जाती है। इस पुरानी कहावत से आशय यही है कि पूरी योजना और युक्ति के साथ काम किया जाए तो किस्मत चमक जाती है। उत्तरप्रदेश के चंदौली में मोती की खेती का सफल प्रयोग कर एक नवयुवक ने नई उम्मीदें जगा दी हैं।

 
पारंपरिक कृषि के समानांतर यह नया प्रयोग इस पूरे क्षेत्र में विकास के नए आयाम गढ़ सकता है। उन्हें पता चला कि भुवनेश्वर की एक संस्था सीफा (सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फ्रेश वाटर एक्वाकल्चर) मोती उत्पादन का प्रशिक्षण देती है। शिवम ने 2014 में यहां से प्रशिक्षण लेकर अपने गांव में मोती उत्पादन शुरू कर दिया।
 
शिवम ने 40 गुणो 35 मीटर का एक तालाब बनाया है। इसमें वे एक बार में दस हजार सीप डालते हैं। इन सीपों में 18 माह बाद सुंदर मोती बनकर तैयार हो जाते हैं। एक-एक सीप के खोल में चार से छह मिलीमीटर तक का सुराख किया जाता है। इस सुराख से सीप के अंदर नाभिकनुमा धातु कण (मैटल टिश्यु) स्थापित किया जाता है।
 
इसे इयोसिन रसायन डालकर सीप के बीचोंबीच चिपका दिया जाता है। मोती का निर्माण तभी शुरू होता है, जब कोई बाह्य पदार्थ इसके अंदर प्रवेश कर जाए। सीप इसके प्रतिकार स्वरूप एक द्रव का स्नाव करता है। अंत में यह मोती का रूप ले लेता है।
 
 
 
 
 
 
 
 
 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS