ब्रेकिंग न्यूज़
मुजफ्फरपुर से रक्सौल व नरकटियागंज तक रेल परिचालन शुरू, 7 दिनों बाद सभी गाड़ियां होंगी रेगुलर.कोई भारत की तरफ आँख भी नहीं उठा सकता, हमारे पास विश्व के सबसे बहादुर सैनिक : राजनाथ सिंह.डोकलाम विवाद का सकारात्मक हल निकलेगा: राजनाथ सिंहश्रीलंका ने भारत के सामने रखा 217 रनों का लक्ष्य, अक्षर पटेल ने लिये 3 विकेटअमित शाह ने की शिवराज की तारीफ, कहा- बीमारू प्रदेश को विकास के रास्ते पर ले आयेमुजफ्फरनगर ट्रेन दुर्घटना में क्षतिग्रस्त ट्रैक पर आज रात 10 बजे तक ट्रेनों का संचालन संभव होगामुजफ्फरनगर रेल हादसाः मेरठ लाइन पर शाम 6 बजे तक ट्रेनें रद्द, कई ट्रेनों का रूट बदला गयाकई निर्दोष लोगों की जान लेनेवाला एके 47 जब्त, दीपक पासवान व मुन्ना पाठक सलाखों के पीछे
नेपाल
तीसरी सोमवारी को दूधेश्वर महादेव मंदिर में उमड़ा आस्था का सैलाब
By Deshwani | Publish Date: 24/7/2017 8:33:38 PM
तीसरी सोमवारी को दूधेश्वर महादेव मंदिर में उमड़ा आस्था का सैलाब

रक्सौल। देशवाणी न्यूज नेटवर्क


 नेपाल के पर्सा वन्यजंतु क्षेत्र (जंगल एरिया) के बीच में स्थित भगवान शिव के दुधेश्वर महादेव मंदिर से सीमाई इलाके के लोगों की आस्था जुड़ी है। यहीं कारण है भठ‍्ठा मेला के नाम से प्रसिद्ध इस स्थान पर हर साल सावन में लाखों लोग आते है और भगवान शिव का जलाभिषेक करते हैं। ऐसी मान्यता है कि जंगल के बीच एक पहाड़ पर स्थित इस मंदिर में आने वाले भक्त की हर मनोकामना पूरी होती है। समुद्र तल से करीब 300 फिट की उंचाई पर स्थित दुधेश्वर महादेव मंदिर तक पहुंचने के लिए भक्तों को काफी दुर्गम रास्ते से यात्रा करनी होती है। इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि मंदिर तक कोई लग्जरी वाहन या कोई दूसरी गाड़ी केवल ट्रैक्टर को छोड़कर नहीं जा सकती है। बाइक सवार भी बड़ी परेशानी के साथ मंदिर तक पहुंच पाते हैं। इधर, हर साल की तरह इस साल भी मंदिर में सावनी मेले का आयोजन किया गया है, जिसमें सोमवार को करीब एक लाख लोगों ने भगवान शिव का जलाभिषेक किया। भक्तों की भारी भीड़ को देखते हुए नेपाली सेना द्वारा सुरक्षा की व्यवस्था की गयी थी। सोमवार को रक्सौल, आदापुर, छौड़ादानो, बेतिया, सिकटा, नरकटीयागंज, चनपटिया, साठी सहित पूर्वी, पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, दरभंगा आदि जिलों के साथ-साथ नेपाल के पर्सा, रौतहट, बारा, मकवानपुर सहित अन्य स्थानों से लोग दुधेश्वर महादेव के दर्शन के लिए पहुंचे थे।

COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS