ब्रेकिंग न्यूज़
मुजफ्फरपुर से रक्सौल व नरकटियागंज तक रेल परिचालन शुरू, 7 दिनों बाद सभी गाड़ियां होंगी रेगुलर.कोई भारत की तरफ आँख भी नहीं उठा सकता, हमारे पास विश्व के सबसे बहादुर सैनिक : राजनाथ सिंह.डोकलाम विवाद का सकारात्मक हल निकलेगा: राजनाथ सिंहश्रीलंका ने भारत के सामने रखा 217 रनों का लक्ष्य, अक्षर पटेल ने लिये 3 विकेटअमित शाह ने की शिवराज की तारीफ, कहा- बीमारू प्रदेश को विकास के रास्ते पर ले आयेमुजफ्फरनगर ट्रेन दुर्घटना में क्षतिग्रस्त ट्रैक पर आज रात 10 बजे तक ट्रेनों का संचालन संभव होगामुजफ्फरनगर रेल हादसाः मेरठ लाइन पर शाम 6 बजे तक ट्रेनें रद्द, कई ट्रेनों का रूट बदला गयाकई निर्दोष लोगों की जान लेनेवाला एके 47 जब्त, दीपक पासवान व मुन्ना पाठक सलाखों के पीछे
जरूर पढ़े
घरेलू और विदेशी पर्यटकों के लिए तमिलनाडु बना पसंदीदा स्थान
By Deshwani | Publish Date: 23/6/2017 3:44:00 PM
घरेलू और विदेशी पर्यटकों के लिए तमिलनाडु बना पसंदीदा स्थान

 नई दिल्ली, (हि.स.)। केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय नें 2016 के दौरान घरेलू और विदेशी दोनों पर्यटकों की संख्या में हुई वृद्धि की रिपोर्ट को साझा किया है। रिपोर्ट में बताया गया राज्यों और संघ शासित प्रदेशों में घरेलू पर्यटक यात्राओं की संख्या 2015 कि तुलना में 2016 में 12.68% की वृद्धि दर्ज कि गई। वहीं विदेशी पर्यटक यात्राओं (एफटीवी) की संख्या 2015 कि तुलना में 2016 में 5.92% की वृद्धि दर्ज की गई है। 

पर्यटन मंत्रालय के मार्केट रिसर्च डिवीजन विभिन्न राज्य सरकारों और संघ शासित प्रदेशों के पर्यटन विभागों से प्राप्त राज्यों और संघ राज्य क्षेत्रों (यूटी) को घरेलू और विदेशी पर्यटकों के दौरे पर डेटा तैयार करता है। 2016 के दौरान, राज्यों और संघ शासित प्रदेशों में घरेलू पर्यटक यात्राओं की संख्या 1613.55 मिलियन है, ये आकड़ा 2015 में 1431.97 मिलियन था। 

2016 के दौरान घरेलू पर्यटक यात्राओं की कुल संख्या में शीर्ष 10 राज्यों का योगदान 84.21% था। घरेलू पर्यटक यात्राओं की संख्या के मामले में शीर्ष दस राज्य, तमिलनाडु (343.81), उत्तर प्रदेश (211.71), आंध्र प्रदेश (153.16), मध्य प्रदेश(150.4 9), कर्नाटक (12 9 .76) महाराष्ट्र (116.52), तेलंगाना (95.16), पश्चिम बंगाल (74.46), गुजरात (42.25) और राजस्थान (41.5) हैं।

वहीं राज्यों और संघ शासित प्रदेशों में विदेशी पर्यटकों के दौरे (एफटीवी) की संख्या 24.71 लाख है, जो 2015 में 23.33 मिलियन थी। जिन शीर्ष दस राज्यों में सबसे अधिक एफटीवी संख्या दर्ज की गई उनमें तमिलनाडु (4.72), महाराष्ट्र (4.67), उत्तर प्रदेश (3.16), दिल्ली (2.52), पश्चिम बंगाल (1.53), राजस्थान (1.51), केरल (1.04), बिहार (1.01), गोवा (0.68) और पंजाब (0.66) का नाम शामिल है। 

COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS