बिहार
सियालदह कामाख्या एक्सप्रेस हादसा होने से बाल-बाल बचा
By Deshwani | Publish Date: 29/5/2017 4:32:58 PM
सियालदह कामाख्या एक्सप्रेस हादसा होने से बाल-बाल बचा

किशनगंज, (हि.स.)। ग्रामीणों की सजगता से किशनगंज सियालदह रेल खंड पर भीषण रेल हादसा होने से बाल-बाल बच गया। अदीना और एकलक्खी स्टेशन के पास पीलर संख्या 216/6-7 से लगभग एक फीट से ज्यादा रेल लाइन को टूटा हुआ देख स्थानीय लोगों ने लाल गमछा दिखाकर 02261 अप-सियालदह कामाख्या एक्सप्रेस को रोक दिया। 

लोगों ने ट्रेन के गार्ड और चालक को घटना की जानकारी दिए जाने के साथ ही उनके होश उड़ गए। इधर घटना की जानकारी मिलते ही रेलवे के वरीय पदाधिकारी फौरन घटनास्थल पर पहुंचे और ट्रैक की मरम्मती कार्य में जुट गए। इस दौरान लगभग डेढ़ घंटे तक सियालदह कामख्या एक्सप्रेस एकलक्खी स्टेशन पर ही रूकी रही। ट्रैक की मरम्मति के बाद अदीना स्टेशन के आगे रेललाइन पर खड़ी सियालदह-कामाख्या एक्सप्रेस को गंतव्य की ओर रवाना किया गया। 
जानकारी के अनुसार, रविवार रात्री को सियालदह कामाख्या एक्सप्रेस अदीना स्टेशन से खुलकर किशनगंज की ओर आ रही थी। इसी बीच एकलक्खी स्टेशन के निकट आम बागान की रखवाली कर रहे लोगों की नजर लगभग एक फीट तक टूटी रेल पटरी पर पड़ी। इधर ट्रेन को पूरे रफ्तार से आता देख लोग किसी अनिष्ट की आशंका से कांप उठे और कुछ लोगों ने बुद्धिमत्ता का परिचय देते हुए गमछा लहराना शुरू कर दिया। जबकि स्थानीय बिजीर बर्मन गमछा लहराते हुए व शोर मचाते हुए ट्रेन की दिशा में दौड़ना शुरू कर दिया। लोगों को गमछा हिलाते और शोर मचाता देख ट्रेन के चालक ने भी ब्रेक लगा दी। नतीजजन ट्रेन टूटे स्थान से महज 100 मीटर पहले रूक गई और भीषण हादसा घटित होने से बाल बाल बच गया। 
स्थानीय लोगों का कहना था कि सियालदह-कामख्या एक्सप्रेस से कुछ ही देर पहले एक मालगाड़ी गुजरी थी। परंतु मालगाड़ी के गुजरते वक्त होने वाले तेज आवाज को सुन जब लोग रेलवे लाइन किनारे पहुंचे तो उन्हें पटरी टूटी मिली। दो पटरियों के जोड़ पर एक फीट तक पटरी टूटी हुई थी।
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS