झारखंड
टीम झारखंड ने बेरोजगारी समाप्त करने का लिया है संकल्प : सीएम
By Deshwani | Publish Date: 12/1/2018 7:12:00 PM
टीम झारखंड ने बेरोजगारी समाप्त करने का लिया है संकल्प : सीएम

रांची, (हि.स.)। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि टीम झारखंड ने राज्य की गरीबी और बेरोजगारी को समाप्त करने का संकल्प लिया है। इस दिशा में राज्य सरकार तेजी से काम कर रही है। युवाओं को हुनरमंद बनाकर उन्हें कौशल विकास से जोड़ने का काम सरकार कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर युवा कोई भी काम ठान लें, तो वह नामुमकिन नहीं है। राज्य के युवा ऊर्जावान हैं। यहां के युवा काफी मेहनती हैं। रघुवर दास शुक्रवार को राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर खेलगांव स्थित इंडोर टाना भगत स्टेडियम में आयोजित स्किल समिट 2018 की अध्यक्षता कर रहे थे। इस अवसर पर राज्य के 25 हजार युवाओं को नियुक्ति पत्र दिया गया। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि निजी क्षेत्रों में युवाओं को रोजगार मिल रहा है। उन्होंने युवाओं से अनुरोध किया कि दिल लगाकर, मेहनत से काम करें और राज्य का नाम रोशन करें। आज का दिन ऐतिहासिक दिन है। रोजगार के क्षेत्र में पहली बार झारखंड ने अवसर दिया है। युवा झारखंड को बढ़ने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती है। झारखंड के युवाओं को कुछ करने की तमन्ना है। उन्होंने कहा कि मैं मजदूर परिवार से आता हूं और मैने गरीबी देखी है। मैने खुद कुजू से कोयला लाकर बेचा है। गरीबी, बेरोजगारी का अनुभव मुझे है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गरीब राज्य की जिम्मेवारी मुझे दी है। हम राज्य में मजदूरी कर रहे हैं और हम मजदूर नंबर एक बनेंगे। उन्होंने युवाओं से कहा कि आपको जिस क्षेत्र में रोजगार मिला है, उसमें दिल लगाकर काम करें। प्रधानमंत्री की सोच है स्किल इंडिया में भारत की पहचान बने। यहां के युवा मेहनती और साहसी हैं। झारखंड देश को मजबूती देगा। राज्य सरकार की यह प्राथमिकता है। 

उन्होंने कहा कि आज विपक्षी नेता जनता को गुमराह करने का काम कर रहे हैं। ऐसे नेताओं ने देश के लिए 60 वर्षों तक कुछ नहीं किया। स्किल झारखंड बनाने में युवा आगे आयें। प्रधानमंत्री के सहयोग से युवाओं की फौज तैयार हो रही है। कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता। मैं ईमानदारीपूर्वक काम कर रहा हूं। आज देश को झारखंड से उम्मीद और आशा है। युवाओं की बुद्धि का विस्तार हो। बड़े घर के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलती है, जिस कारण उन्हें अच्छी नौकरी मिल जाती है लेकिन गरीब के बच्चों को जब तक हम शिक्षित नहीं करेंगे, तब तक उन्हें रोजगार नहीं मिलेगा। इसलिए स्किल से जोड़कर उन्हें रोजगार मुहैया कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कौशल विकास के लिए सरकार ने 700 करोड़ खर्च कर स्किल डेवलपमेंट किया है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि हर गरीब मेरी फौज है। उसी के जरिये गरीबी की जंग जीतनी है। अब युवा एक नई दुनिया बसायेंगे और अपनी जरूरतों को पूरा करेंगे। 

उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कहा था कि अंधेरा छंटेगा और कमल खिलेगा। इसी के तहत गरीबी हटानी है। आज 263 कौशल विकास केंद्रों के माध्यम से युवाओं को स्किल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि झारखंड में अपार संभावनाएं हैं। यहां भू-संपदा है। हम मानव संसाधान का विकास कर दुनिया के विकसित राज्यों में शुमार हो सकेंगे। इस दिशा में आम जनता भी ऑनलाइन के जरिये अपना सुझाव दे सकती है। टाटा इंडस्ट्री में परिवारिक भावना के कारण औद्योगिक क्षेत्र में राज्य बढ़ रहा है। झारखंड उद्योग जगत की ताकत है। इसे दुनिया तक पहुंचाना है। आज युवाओं की जिस कंपनी में नियुक्ति हुई है। उसे अपना समझें। पारिवारिक भावना के साथ युवा काम करें। राज्य से युवा रोजगार के लिए बाहर जायें। इसके लिए विदेश भवन बनाया जायेगा ताकि यहां से विदेशों में जाने वाले लोगों को कोई परेशानी नहीं हो। आज कई फर्जी कंपनियां जालसाजी कर लोगों को विदेश ले जाती हैं, वहां लोगों को परेशानी होती है। इस दिशा में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आवश्यक कदम उठाया है। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, जयंत सिन्हा, मंत्री सीपी सिंह, नीरा यादव, राज पलिवार सहित अन्य लोग उपस्थित थे। 

COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS