ब्रेकिंग न्यूज़
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद नागपुर के दीक्षाभूमि पहुंचेभारत ने अफगानिस्तान के लिए 116 परियोजनाओं की घोषणा कीपीएमजी ने शुभांरभ किया मोतिहारी में 'माई स्टांप' काउंटर, बनाइए अपनी तस्वीर का डाक टिकटगोलियों से थर्राया कल्याणपुर का इलाका, पुलिस व बदमाशों के बीच घंटों मुठभेड़निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान का प्रमोशन, कैबिनेट मंत्री पद की ली शपथमोदी कैबिनेट : सभी नये चेहरे राज्यमंत्री और धर्मेंन्द्र, पीयूष, निर्मला व मुख्तार को प्रमोशनआज ब्रिक्स सम्मेलन में भाग लेने चीन रवाना होंगे पीएम मोदीमंत्रिमंडल में शामिल होने वाले सांसदों ने की प्रधानमंत्री से मुलाकात
झारखंड
भरनो में तालाब और डोभा निर्माण में अनियमितता का आरोप
By Deshwani | Publish Date: 30/5/2017 11:33:06 AM
भरनो में तालाब और डोभा निर्माण में अनियमितता का आरोप

गुमला,  (हि.स.)। भरनो प्रखंड में इन दिनों मनरेगा के तहत तालाब और डोभा निर्माण में लूट मची हुई है। फर्जी मस्टर रोल के माध्यम से पैसे की निकासी की जा रही है। इस खेल में पंचायत सेवक, रोजगार सेवक और बिचौलिया शामिल है। बताया जाता है कि तुरिअम्बा पंचायत के महुवाटोली गांव में बुधन उरांव की जमीन पर 100×100 तालाब निर्माण के नाम पर 27 हजार 48 रूपये की फर्जी मजदूरी भुगतान की गई है। बताते चलें कि भरनो से चट्टी तक बन रहे सड़क किनारे मिट्टी देने के लिए जेसीबी से इस स्थान से मिट्टी खोदा गया है जिसे मनरेगा योजना से तालाब का रूप देने की कोशिश की जा रही है।
इस तालाब का प्राकलन राशि 4 लाख 26 हजार रुपये है । एक दूसरे मामले में महुवाटोली गांव में पावर हॉउस के पास खदीया उरांव के जमीन पर 30×30 डोभा निर्माण कराया गया । यहां खेत पर पूर्व से ही गड्ढा था,जिसे सिर्फ मेढ़ बांधकर डोभा का रूप दे दिया गया। इसकी प्राक्कलन राशि 23 हजार रुपये है। इस पंचायत के पंचायत सेवक निर्मल साहू और रोजगार सेवक प्रकाश उरांव हैं। इस मामले पर पूछे जाने पर रोजगार सेवक ने कहा कि तालाब निर्माण के लिए मुझे अलग स्थान दिखाया गया था।
पंचायत सेवक निर्मल साहू ने पल्ला झाड़ते हुए कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। मामला प्रकाश में आने के बाद पंचायत सेवक और रोजगार सेवक योजना स्थल पहुंचकर बचने बचाने में लग गए और लाभुक को दूसरे स्थान पर तालाब बनाने के निर्देश दिए । मामला यहां यह है कि काम हुआ नहीं और मजदूरी भुगतान के नाम पर पैसे की निकासी हो जाती है। प्रखंड में इस तरह के कई मामले हैं, जहां मनरेगा योजनाओं में सरकारी राशि का बंदरबांट किया जा रहा है। अगर यहां डोभा और तालाब निर्माण की उच्चस्तरीय जांच कराई जाये तो इस खेल में शामिल लोगों का पर्दाफाश हो जाएगा।

COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS