ब्रेकिंग न्यूज़
राज कपूर की आरके स्टूडियो में लगी आगपीएमजी ने शुभांरभ किया मोतिहारी में 'माई स्टांप' काउंटर, बनाइए अपनी तस्वीर का डाक टिकटगोलियों से थर्राया कल्याणपुर का इलाका, पुलिस व बदमाशों के बीच घंटों मुठभेड़निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान का प्रमोशन, कैबिनेट मंत्री पद की ली शपथमोदी कैबिनेट : सभी नये चेहरे राज्यमंत्री और धर्मेंन्द्र, पीयूष, निर्मला व मुख्तार को प्रमोशनआज ब्रिक्स सम्मेलन में भाग लेने चीन रवाना होंगे पीएम मोदीमंत्रिमंडल में शामिल होने वाले सांसदों ने की प्रधानमंत्री से मुलाकातमोदी कैबिनेट विस्तार पर नीतीश का बड़ा बयान, हमलोगों को नहीं है कोई जानकारी
झारखंड
हथियार से लैश जनी शिकार पर निकली दर्जनों महिलाएं
By Deshwani | Publish Date: 1/5/2017 1:57:12 PM
हथियार से लैश जनी शिकार पर निकली दर्जनों महिलाएं

रांची। अरगोड़ा थाना स्थित कडरू के नया टोली से सोमवार को 12 साल बाद फिर महिलाएं पारंपरिक जनी शिकार पर निकली। इससे पूर्व महिलाओं के हथियार को सरना स्थल में रखकर पाहन ने पूजा अर्चना की। इसके बाद हाथ में पारंपरिक हथियार लेकर महिलाएं पुरुष के वेश में जनी शिकार पर निकल गयी। इस दौरान महिलाओं ने मुर्गी, खस्सी, सूअर और बतख का शिकार किया। इसके बाद सभी मिलकर उसे पकाते हैं और खाते हैं। 

आदिवासी समाज के जानकार सुरेश ठाकुर ने संपर्क करने पर बताया कि जनी शिकार का शुभारंभ 1400 ई. में हुआ था। उन्होंने बताया कि एक बार जब पुरुष वर्ग युद्ध से लौटकर गहरी नींद में सो रहा था। आदिवासी समाज पर दूसरे समुदाय के लोगों ने आक्रमण कर दिया। उस समय महिलाओं ने जगाना उचित नहीं समझा और खुद पुरुषों के वेश धारण कर महिलाओं ने युद्ध किया जिसमें उनकी जीत हुई। 
 
गौरतलब है कि ग्रामीण क्षेत्रों में जनी शिकार का सिलसिला शुक्रवार से ही शुरू है. पिठोरिया, रातू और जोन्हा में जनी शिकार पर महिलाएं निकलकर शिकार कर चुकी हैं। इस दौरान लोगों ने काफी विरोध किया और कई स्थानों पर नोक-झोंक भी हुई। रातू में शिकार पर गयी चार महिलाएं घायल भी हो गयी थी। जनी शिकार 12 वर्ष के बाद मनाया जाता है।
 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS