संपादकीय
काल्पनिक हजामत की अफवाह : रमेश ठाकुर
By Deshwani | Publish Date: 4/8/2017 3:54:55 PM
काल्पनिक हजामत की अफवाह : रमेश ठाकुर

चोटीकांड समाज की मौजूदा सामूहिक दुर्दांत चेतना के कुंद हो जाने का एक उदाहरण मात्र है। चोटी काटने की घटनाएं जबसे सामने आई हैं तबसे देश भर की महिलाएं दहशत और खौफ में हैं। राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश व दिल्ली में चोटी कटने की विचित्र घटनाओं से महिलाएं सहम सी गई हैं। इन संदेहादस्पद घटनाओं पर एकाएक विश्वास करना मुश्किल हो रहा है। महिलाओं के अपने आप बाल कटने की वारदातों ने चारों ओर खलबली मचा दी है। शासन-प्रशासन भी सकते में है। उन्हें लगातार शिकायतें मिल रही हैं। 

इन घटनाओं ने पूरे पुलिस महकमे को सोचने पर मजबूर कर दिया है। हरियाणा में चोटी कटने की अब तक करीब पचास-साठ शिकायतें पुलिस को मिल चुकी हैं। प्रशासन ने पहले इस घटना को हस्यास्पद करार दिया, लेकिन जब घटनाएं एक के बाद एक बढ़ती गईं तो संज्ञान लेना उचित समझा। जहां वारदात की शिकायतें मिल रही हैं पुलिस वहां भी पहुंच रही है लेकिन वारदात की जगह पर कोई सुराग नहीं मिल रहे। अब तो बालकांड पीड़ितों के मेडिकल टेस्ट भी कराए जाने लगे हैं। बावजूद इसके कोई असामान्य लक्षण सामने नहीं आ रहे। घटना के वक्त किसी ने अभी तक यह दावा नहीं किया है उन्हें कथित हमलावर दिखाई दिया। सभी हवा में तीर चला रहे हैं। बाल काटने की घटना अफवाह है या सच्चाई? इसको अपने स्तर पर जांचने के लिए अलग-अलग राज्यों की पुलिस खूब पसीना बहा रही हैं। नतीजा फिर भी शून्य निकल रहा है। 

चोटी कटने की सबसे पहली घटना हरियाणा में घटी। इसके बाद देश के कई राज्यों में यह सिलसिला शुरू हो गया। बाल काटे या नहीं, ये कहना फिलहाल जल्दबाजी होगी। प्राथमिक तौर पर यह घटननाएं अफवाह सी लगती हैं। अभी तक कोई वैज्ञानिक प्रमाणिकता सामने नहीं आई है। उत्तरी भारत के हरियाणा और राजस्थान की करीब पचास से अधिक महिलाओं ने शिकायत की है कि किसी ने उन्हें बेहोश कर रहस्यमयी तरीके से उनके बाल काट लिए हैं। शुरू में बहुत दिनों तक इस रहस्य को सुलझाने में पुलिस नाकाम रही। चोटीकांड की खबर पिछले कुछ दिनों से पूरे देश में आग की तरह फैली हुई है। इसका सबसे ज्यादा बुरा असर महिलाओं पर पड़ रहा है। औरतें डरी व सहमी हुई हैं। डरे भी क्यों न, आखिर घटनाएं उनसे ही जुड़ी हैं। गांव की औरतें रात के वक्त उजाला करके सो रही हैं। दिन में खेतों में भी काम करने नहीं जा रही हैं। ग्रामीण महिलाओं के भीतर चोटी कटने की दहशत इस कदर समा गई है कि वह दिन में भी अकेली घरों से बाहर नहीं निकलतीं। महिलाओें के भीतर पनपे इस डर को देखकर उनके पति भी इस उधेड़बुन में हैं कि आखिर यह कैसे हो रहा है, वह भी बहुत चिंतित हैं। 

पीड़ितों की कहानी पर पुलिस-प्रशासन विश्वास नहीं कर रहा। दो दिन पहले की ही बात है जब एक घटना की शिकायत लेकर गुरूग्राम के भीमगढ़ इलाके की बुजुर्ग सुनीता देवी थाने पहुंच कर बताती हैं कि एक तेज फ्लैश लाइट उनके चेहरे पर अचानक पड़ती है और वह बेहोश हो जाती हैं। जब होश आता है तो पता चलाता है कि उनके बाल कट चुके थे। दिल्ली के कोटला, रणहौला, नजफगढ़ व अन्य कुछ जगहों से भी पुलिस को कुछ ऐसी ही शिकायतें मिली हैं। पुलिस अपने स्तर पर गंभीरता से जांच करने लगी लेकिन हाथ खाली रहे। हालांकि कुछ संदिग्ध और जेबकतरों को पकड़ कर शक के आधार पुलिस पूछताछ करती रही। दिल्ली में इस घटना की सच्चाई को जानने के लिए पुलिस मनोवैज्ञानिक अस्पताल इबहास की मदद लेने लगी। शिकायत करने वाली महिलाओं की चिकित्सकों से कांउसिलिंग कराने का सिलसिला शुरू हुआ। महिलाओं के व्यवहार, सोच, व साामजिक सांस्कृतिक परिवेश को जानने के लिए इबहास की एक टीम बकायदा इस काम पर लगा दी गई। 

दरअसल काल्पनिक हजाम की पहली अफवाह वाली खबर पिछले माह तीन जुलाई को राजस्थान में सामने आई थी, लेकिन उसके बाद हरियाणा, फिर दिल्ली और उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में कई महिलाओं की चुटिया अपने आप कट चुकी हैं। दूसरी ओर इस तरह के अफवाह अथवा घटनाओं के दौर में आगरा में एक बुजुर्ग महिला की जान चली गई। महिला रास्ता भटककर अपनी गली छोड़कर दूसरी गली में चली गई थी। लोगों ने उसे डायन समझकर हल्ला मचाना शुरू कर दिया और बुजुर्ग महिला को लोगों ने चारों ओर से घेर लिया और पीटने लगे। लोगों ने उसे मार-मार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। इसकी खबर महिला के परिजन को लगी। वह मौके पर पहुंचे और उसे इलाज के लिए अस्पताल ले गए। ज्यादा गंभीर चोटे आने के चलते वृद्धा ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। घटना आगरा के मुटनई गांव की है। घटना को अंजाम देने वाले लोगों पर फिलहाल पुलिस ने गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। फिर भी सवाल ये है कि महज अफवाह ने एक निर्दोश की जान ले ली। इसकी जबावदेही किसकी है? 

शिक्षित वर्ग कभी भी इस तरह की जन भ्रामक कहानियों पर विश्वास नहीं करता। समाज में समय-समय पर इस तरह की बेकार बातों का बाजार गर्म रहता है। मतलब इस तरह की ढोंगी कहानियां पहले भी सामने आती रही हैं। कुछ साल पहले दुनिया भर के लाखों हिन्दुओं के बीच एक अफवाह फैली हुई थी कि गणेश भगवान की मूर्ति दूध पी रही है। बात इक्कीस सितंबर 1995 की है। सुबह के समय भगवान गणेश की मूर्ति को चम्मच से दूध पीने की अफवाह ने समूचे हिंदुस्तान को अपने आगोश में ले लिया था। लोग मंदिरों में उमड़ पड़े। धक्का-मुक्की होने लगी। जब सच्चाई सामने आई तो सभी सन्न रह गए। चोटी काटने की घटना भी इसी घटना से मेल खाती लगती है। इसके पीछे कोई चमत्कार या अलौकिक शक्ति नहीं दिखाई पड़ती। घटनाओं की शिकायत करने वाली महिलाएं निश्चित तौर पर किसी आंतरिक मनोवैज्ञानिक द्वंद्व से जूझती दिखाई पड़ती हैं। जब वो इस तरह की घटनाओं के बारे में सुनती हैं तो खुद पर ऐसा होते हुए सा अहसास करती हैं, ऐसा कभी-कभी अवचेतनावस्था में भी होता है।

COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS