बिज़नेस
मौद्रिक नीति में दरों को मौजूदा स्तर पर रखने के आरबीआई के फैसले से फिक्की निराश
By Deshwani | Publish Date: 6/12/2017 7:32:41 PM
मौद्रिक नीति में दरों को मौजूदा स्तर पर रखने के आरबीआई के फैसले से फिक्की निराश

 नई दिल्ली, (हि.स.)। फेडेरेशन ऑफ इंडियन चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) ने बुधवार को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) द्वारा मौजूदा दरों में बदलाव नहीं करने के फैसले पर निराशा जताई है। दिल्ली में जारी एक वक्तव्य में फिक्की ने कहा कि आरबीआई के मौजूदा स्तर पर नीति दर को रखने के निर्णय ने निराश किया है। हम दूसरी तिमाही के जीडीपी आंकड़ों के बाद और बेहतर आर्थिक परिदृश्य के निर्माण के लिए प्रयासरत हैं। अर्थव्यवस्था में बदलाव के प्रारंभिक संकेतों को एक ठोस सुधार के लिए समर्थन की आवश्यकता होती है, जो दरों में मामूली कटौती से हो सकता था। 

 
फिक्की के अध्यक्ष पंकज पटेल ने कहा कि आवास ऋण को बढ़ाने के लिए शर्तों को सुलझाने की स्थिति में कुछ और लक्षित हस्तक्षेप के साथ पॉलिसी दर में कटौती से आवश्यक प्रोत्साहन मिलेगा| आर्थिक सुधार प्रक्रिया में शक्ति देने के लिए सरकार की अपनी कोशिशों को पूरा किया जाएगा। फिक्की के बिजनेस कॉन्सिडेंस सर्वे से पता चलता है कि कंपनियां ब्याज दरों की बाध्यता का सामना कर रही हैं और नए निवेशों से पहले ही बाजार की मांग में मजबूत वृद्धि के चरण की तलाश कर रही हैं। आरबीआई ने मुद्रास्फीति पर अत्यधिक ध्यान केंद्रित करने की स्थिति पैदा की है, जहां वास्तविक ब्याज दरें आज बहुत अधिक हैं और अर्थव्यवस्था के विकास के प्रदर्शन पर असर डाल रही हैं। ऐसे समय में जब केंद्रीय बैंक द्वारा परिभाषित बैंड में मुद्रास्फीति ठीक है, ऐसे में मुद्रास्फीति पर ध्यान केंद्रित करने की सरकार की सोच पर एक बार फिर विचार करने की आवश्यकता है। 
 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS