ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल में राज्यपाल और प्रांतीय राजधानी पर पुनर्विचार करेगी नई सरकार : ओलीउप्र के नये राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार ने संभाला कार्यभार29 उत्पादों, 53 सेवाओं पर जीएसटी दरें परिवर्तित, पेट्रोलियम- रियल इस्टेट का जिक्र नहीं, फाइलिंग का सरलीकरण मुद्दाटेरर फंडिंग मामले में हाफिज सईद समेत आठ के खिलाफ आरोपपत्रपाकिस्तान के तीन रेंजर ढेर, जवान शहीद... पंजाब: कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत का इस्तीफा मंजूर, फिर टला मंत्रिमण्डल विस्तारदिल्ली: केंद्रीय वित्त मंत्री की अध्यक्षता में विज्ञान भवन में जीएसटी काउंसिल की बैठक शुरू... पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में आदर्श आचार संहिता लागू, ईवीएम और वीवीपैट से होगा मतदान
बिज़नेस
केंद्र बनाए किंगफिशर की जांच के लिए समिति : संसदीय समिति
By Deshwani | Publish Date: 13/8/2017 2:11:09 PM
केंद्र बनाए किंगफिशर की जांच के लिए समिति : संसदीय समिति

 नई दिल्ली, (हि.स.)। संसदीय स्थायी समिति ने केंद्र सरकार को दिवालिया हो चुकी विमान सेवा कंपनी किंगफिशर पर ‘बकाया बढ़ने देने’की जिम्मेदारी तय की जांच के समिति बनाने की सलाह दी है। जिसकी जिम्मेदारी भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) को सौंपी गई है।

केंद्र ने परिवहन, पर्यटन एवं संस्कृति पर संसद की स्थायी समिति को बताया कि जांच के समिति की अध्यक्षता एक वरिष्ठ अधिकारी को सौंपी गई है। जो ये जांच करेंगे कि किंगफिशर के पास बकाया बढ़ने देने के लिए कौन से अधिकारी जिम्मेदार हैं और सुझाव देगी ताकि भविष्य में इस तरह की घटनायें दोहराई न जा सकें। 
समिति को दी गई जानकारी के अनुसार, प्राधिकरण के सभी क्षेत्रीय मुख्यालयों और हवाई अड्डों को निर्देश दिये गये हैं कि वे भविष्य में इस तरह के मामले की पुनरावृत्ति रोकने के उपाय करें। 
आंतरिक समिति की रिपोर्ट आने के बाद सरकार ने इस मामले में आगे कार्रवाई करने का समिति को आश्वासन भी दिया है। संसदीय समिति ने सरकार से कहा, ‘आंतरिक समिति की जांच में दोषी पाये गये जवाबदेह अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई हो।‘
उल्लेखनीय है कि किंगफिशर पर 31 दिसंबर 2016 तक एएआई का 294.69 करोड़ रुपये बकाया था जिसे प्राधिकरण के बही खातों में बट्टे खाते में डाला जा चुका है। 
 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS