बिहार
'सुप्रीम कोर्ट के चार जजों की प्रतिक्रिया का निदान है न्यायिक सेवा आयोग का गठन'
By Deshwani | Publish Date: 12/1/2018 9:06:05 PM
'सुप्रीम कोर्ट के चार जजों की प्रतिक्रिया का निदान है न्यायिक सेवा आयोग का गठन'

पटना, (हि.स.)। जदयू के राष्ट्रीय महासचिव पूर्व मंत्री एवं विधानसभा में पार्टी के उपनेता श्याम रजक ने सुप्रीम कोर्ट के चार जजों के मीडिया के सामने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के प्रशासनिक कार्यों पर सवाल उठाने पर कहा कि इसके समाधान के लिए न्यायिक सेवा आयोग का गठन व न्यायपालिका में आरक्षण लागू किया जाना चाहिए। 
रजक ने शुक्रवार को चारो जजों के बयान का स्वागत करते हुए कहा 'ये तारीख इतिहास में याद की जाएगी। हम दलित पिछले कई वर्षों से यह आवाज उठाते आ रहे हैं। अब जजों के बयान से सब कुछ साफ हो गया है कि न्याय व्यवस्था में कुछ सही नहीं चल रहा है। यह लोकतंत्र के लिए खतरा ही नहीं संक्रमण काल है। देश भर में दलितों पिछड़ों के साथ षड्यंत्र कर उन्हें प्रताड़ित करने हेतु गलत मुकदमें में फंसा दिया जाता है। उचित समय पर न्याय न मिलने के कारण उन्हें दर-दर भटकना पड़ता है। इस कारण वे सामाजिक व आर्थिक रूप से पिछड़ जाते हैं और उनके आश्रितों का शैक्षणिक विकास भी नहीं हो पाता है। ऐसे में दलित-पिछड़े व गरीब वर्ग के लोगों को किस तरह न्याय मिल पाएगा। वे अपनी बातों को कहां रखेंगे, किससे न्याय की गुहार लगाएंगे। यह बात सोचने पर मजबूर कर देती है कि निचली अदालतों में स्थिति क्या होगी। ऐसे में न्यायिक सेवा आयोग का गठन व न्यायपालिका में आरक्षण की जरूरत और अधिक बढ़ जाती है।'
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS