ब्रेकिंग न्यूज़
राज कपूर की आरके स्टूडियो में लगी आगपीएमजी ने शुभांरभ किया मोतिहारी में 'माई स्टांप' काउंटर, बनाइए अपनी तस्वीर का डाक टिकटगोलियों से थर्राया कल्याणपुर का इलाका, पुलिस व बदमाशों के बीच घंटों मुठभेड़निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान का प्रमोशन, कैबिनेट मंत्री पद की ली शपथमोदी कैबिनेट : सभी नये चेहरे राज्यमंत्री और धर्मेंन्द्र, पीयूष, निर्मला व मुख्तार को प्रमोशनआज ब्रिक्स सम्मेलन में भाग लेने चीन रवाना होंगे पीएम मोदीमंत्रिमंडल में शामिल होने वाले सांसदों ने की प्रधानमंत्री से मुलाकातमोदी कैबिनेट विस्तार पर नीतीश का बड़ा बयान, हमलोगों को नहीं है कोई जानकारी
नेपाल
नेपाल और चीन की बढ़ती नजदीकियों से भारत को हो सकता है खतरा!
By Deshwani | Publish Date: 17/8/2017 5:40:12 PM
नेपाल और चीन की बढ़ती नजदीकियों से भारत को हो सकता है खतरा!

काठमांडू, (हि.स.) । बाढ़ की चपेट में आए नेपाल को चीन ने मंगलवार को 10 लाख डॉलर की मदद देने की घोषणा की है। चीन के उप प्रधानमंत्री वांग यांग ने नेपाल से द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने की कड़ी में इस मदद की घोषणा की थी। यह जानाकारी गुरुवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली।
बीबीसी के अनुसार, वांग यांग ने यह घोषणा दोनों देशों के उपप्रधानमंत्री स्तर की बैठक के बाद की। नेपाल और चीन के बीच बढ़ती नजदीकियों से भारत और नेपाल के रिश्तों पर क्या फर्क पड़ेगा इस बारें में नेपाल के वरिष्ठ पत्रकार युवराज घिमिरे ने बताया कि पिछले 21 सालों से ऐसी बाढ़ नहीं आई थी। इस बार की बाढ़ बहुत भयावह है। इस बाढ़ से जानमाल का काफी नुकसान हुआ है। इससे अब तक कम से कम 120 लोगों की जान जा चुकी है। इसी बाढ़ के मद्देनजर चीन के उपप्रधानमंत्री ने 10 लाख डॉलर की तत्काल मदद देने की घोषणा की।
चीन की मदद पर भारत ने कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं दी है। भारत के लिए चिंतित होने की वजह इसलिए है कि नेपाल के तराई क्षेत्र में भारत की तरफ़ से सीमाई इलाक़े में एकतरफ़ा बनाए गए बांधों के कारण बाढ़ आई है। ऐसे करीब 15 बांध बनाए गए हैं। इन बांधों के कारण नेपाल का ऊपरी इलाक़ा बाढ़ की चपेट में है।
इन बांधों के कारण इंसानों की जिंदगी के अलावा कई चीजें प्रभावित हुई हैं। इसको लेकर भारत के खिलाफ गुस्सा भी है, क्योंकि उसने नेपाल में अनाधिकृत रूप से इन बांधों का निर्माण किया है। ऐसे में चीन मदद करता है तो इसका एक मनोवैज्ञानिक संदेश भी जाता है। 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS