राष्ट्रीय
संघ ने सत्ता मिलने पर तिरंगे को सलाम करना सीखा : राहुल गांधी
By Deshwani | Publish Date: 17/8/2017 3:36:27 PM
संघ ने सत्ता मिलने पर तिरंगे को सलाम करना सीखा : राहुल गांधी

नई दिल्ली, (हि.स.)। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने संघ और केंद्र पर वार करते हुए कहा 'संघ को जब सत्ता मिली तभी उसने राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को सलाम करना सीखा।’ राहुल ने मोदी सरकार उद्योगपतियों की सरकार करार दिया है।
राज्यसभा में पार्टी संसदीय दल के नेता पद से हटाए गए शरद यादव ने गुरुवार को दिल्ली में ‘साझा विरासत बचाओ सम्मेलन’ का आयोजन किया। कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री मनामेहन सिंह, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के राष्ट्रीय महासचिव सीताराम येचुरी, भाकपा के राष्ट्रीय महासचिव डी राजा, नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारूख अब्दुल्ला और तारिक अनवर सहित कई विपक्षी नेता शरद यादव की साझा विरासत कार्यक्रम में शामिल हुए।
साझा विरासत में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, 'देश को देखने के दो तरीके होते हैं- एक कहता है यह देश मेरा है और दूसरा कहता है कि मैं इस देश का हूं। बस यही फर्क है संघ और हमारी सोच में। आरएसएस कहता है यह देश हमारा है, तुम इसके नहीं हो। गुजरात में दलितों की पिटाई की और कहा ये देश हमारा है, तुम इसके नहीं हो।'
राहुल गांधी ने संघ और केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा सरकार पर वार करते हुए कहा, ‘उनके सबसे बड़े नेता ब्रिटिश सरकार के सामने लड़ाई नहीं कर पाए थे। उनके एक नेता ने ब्रिटिश सरकार को पत्र लिखकर जेल से फ्री करने की बात कही थी। राहुल गांधी ने कहा कि सरकार आने से पहले कहा गया था कि 2 करोड़ लोगों को रोजगार देंगे, 15 लाख देने का वादा किया था लेकिन उन्होंने एक भी वादा पूरा नहीं किया।’
राहुल गांधी ने कहा, 'मोदी जी ने देश में मेक इन इण्डिया का नारा दिया लेकिन अधिकांश वस्तुएं आज भी चीन निर्मित बिक रही हैं। कहां है मेक इन इण्डिया? सच्चाई यह है कि मोदी जी का मेक इन इण्डिया असफल हो गया है। मोदी जी जहां जाते हैं, कुछ न कुछ झूठ बोलकर निकलते हैं। अगर हम सब एक साथ होकर भाजपा के खिलाफ लड़ें तो ये लोग कहीं नजर नहीं आएंगे।'
राहुल ने संघ पर वार करते हुए कहा, 'आरएसएस जानता है कि उनकी विचारधारा देश में चुनाव नहीं जीत सकती इसके चलते वो लोग हर संस्थान में अपने लोगों को नियुक्त कर रहे है। संविधान में बकायदा लिखा है की एक व्यक्ति एक वोट। जो अधिकार संविधान देता है उसको संघ नष्ट करना चाहता है। संघ द्वारा संविधान को बदलने के प्रयास किये जा रहे हैं। वित्त मंत्री जेटली जी एक तरफ कहते हैं कि उद्योगपतियों का कर्जा माफ़ करना हमारी नीति है लेकिन किसानों के मरने से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता।'
राहुल ने कहा, 'संघ को जब सत्ता मिली तभी उसने राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को सलाम करना सीखा। राहुल ने केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए मोदी सरकार को उद्योगपतियों की सरकार बताया। राहुल ने कहा, 'सरकार के लिए ये किसान इस देश के नहीं है, यह देश सिर्फ 15-20 उद्योगपतियों का है।'
 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS