ब्रेकिंग न्यूज़
मुजफ्फरपुर से रक्सौल व नरकटियागंज तक रेल परिचालन शुरू, 7 दिनों बाद सभी गाड़ियां होंगी रेगुलर.कोई भारत की तरफ आँख भी नहीं उठा सकता, हमारे पास विश्व के सबसे बहादुर सैनिक : राजनाथ सिंह.डोकलाम विवाद का सकारात्मक हल निकलेगा: राजनाथ सिंहश्रीलंका ने भारत के सामने रखा 217 रनों का लक्ष्य, अक्षर पटेल ने लिये 3 विकेटअमित शाह ने की शिवराज की तारीफ, कहा- बीमारू प्रदेश को विकास के रास्ते पर ले आयेमुजफ्फरनगर ट्रेन दुर्घटना में क्षतिग्रस्त ट्रैक पर आज रात 10 बजे तक ट्रेनों का संचालन संभव होगामुजफ्फरनगर रेल हादसाः मेरठ लाइन पर शाम 6 बजे तक ट्रेनें रद्द, कई ट्रेनों का रूट बदला गयाकई निर्दोष लोगों की जान लेनेवाला एके 47 जब्त, दीपक पासवान व मुन्ना पाठक सलाखों के पीछे
झारखंड
पाकुड़ में डेंगू का कहर, एक सप्ताह में मिले 18 मरीज
By Deshwani | Publish Date: 13/8/2017 11:08:19 AM
पाकुड़ में डेंगू का कहर, एक सप्ताह में मिले 18 मरीज

 पाकुड़,  (हि.स.)। पाकुड़ सदर अस्पताल में स्थित लैब में जांच के दौरान एक सप्ताह में डेंगू पीड़ित 18 मरीज पाए गए हैं। अस्पताल से इस दौरान जांच कराने पहुंचे मरीजोे सनाहार खातून (22), मिली खातून (18), रिजेला बीबी (60), अख्तर शेख (27), शब्बीर शेख (20), रसीकुल शेख (32),लुतीफन बीबी (50), सलाउद्दीन अंसारी (17),प्रदीप दास (38), रजीकुल शेख (19), अमर दास(34), संजीव कुमार (23), सलीम शेख (20), विजय रजक (34), नूर इस्लाम (55), रहमातुन निशा (20), रहमातुल बेवा (51) एवं नसरीन खातून और (15)आदि की जांच के दौरान डेंगू के लक्षण पाए गए हैं। इनमें से तीन को छोड़ सभी बेहतर इलाज के लिए बाहर चले गए हैं। 

उल्लेखनीय है कि सदर प्रखंड के कुमारपुर, संग्रामपुर, रानीपुर, पृथ्वीनगर, गोपीनाथपुर, गंधायपुर, देवतल्ला के अलावा हिरणपुर के हाथकाठी, लिटीपाडा के जबरदाहा, कमलघाटी आदि गांवों में हाल के दिनों में बड़ी तेजी से डेंगू ने अपना पांव पसारा है। आर्थिक रूप से सक्षम लोग तो अपना इलाज कराने बिहार, पश्चिम बंगाल आदि के बड़े अस्पतालों को चले जाते हैं। जबकि निर्धन लोगों को पाकुड़ सदर अस्पताल के भरोसे ही रहना पड़ता है। हालांकि सिविल सर्जन डाॅक्टर एन के मेहरा बार बार दावा करते हैं कि सभी प्रभावित गांवों में इलाज की समुचित व्यवस्था की जा रही है। स्वास्थ्य विभाग की टीमें प्रभावित गांवों में कैम्प भी कर रही हैं। जो मरीज सदर अस्पताल पहुंच रहे हैं उनका यहां समुचित इलाज भी किया जा रहा है लेकिन डेंगू का कहर थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। लोग दहशत में जीने को विवश हैं।
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS