राष्ट्रीय
उत्तर प्रदेश से पहले राष्ट्रपति हो सकते हैं रामनाथ कोविंद
By Deshwani | Publish Date: 19/6/2017 6:32:39 PM
उत्तर प्रदेश से पहले राष्ट्रपति हो सकते हैं रामनाथ कोविंद

 कानपुर, (हि.स.)। प्रधान मंत्री के रूप में देश की कमान तो कई बार उत्तर प्रदेश संभाल चुका है, अब राष्ट्रपति बनने की तैयारी है। रविवार को इसका ऐलान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने किया। कानपुर के रहने वाले व बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद का देश का अगला राष्ट्रपति बनने का रास्ता करीब-करीब तय हो चुका है। अभी चुनाव बाकी है, लेकिन संख्या के लिहाज से एनडीए उम्मीदवार कोविंद बहुत आगे हैं।

सोमवार को दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा करते ही शहरवासियों में खुशी की लहर दौड़ गई। कोविंद के करीबी बीएनएसडी शिक्षा निकेतन के प्रधानाचार्य डा. अंगद का कहना है कि कानपुरवासियों के लिए यह गर्व की बात है। महापौर कैप्टन जगतवीर सिंह द्रौण ने कहा कि यहां का कोई व्यक्ति देश का प्रथम नागरिक बने, इससे बड़ी बात और क्या हो सकती है। हमें तो बहुत खुशी है।
बता दें कि रामनाथ कोविंद के पहले केन्द्र की अटल बिहारी सरकार के दौरान 2002 के राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार डा. एपीजे अब्दुल कलाम के खिलाफ कानपुर की लक्ष्मी सहगल ने चुनाव लड़ा था, लेकिन वामपंथियों सहित कुछ ही पार्टियों का उनको समर्थन मिला और वह चुनाव हार गईं। अब कोविंद कानपुर से दूसरे राष्ट्रपति उम्मीदवार बने हैं और एनडीए की संख्या के आधार पर उनकी जीत तय है। रामनाथ कोविंद का जन्म 1945 में हुआ। वह कानपुर देहात की डेरापुर तहसील के परौख गांव के मूल निवासी हैं। आरएसएस से जुड़कर लगातार वह दलितों की भलाई के लिए काम करते रहे। कोविंद 1994 से 2006 तक लगातार दो बार राज्यसभा सांसद रहे। केन्द्र में 2014 में भाजपा की सरकार आते ही पार्टी ने एक बार फिर उन पर विश्वास जताया और बिहार का राज्यपाल बना दिया। 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS