बिहार
महाशिवरात्रि पर बाबा पातालेश्वर नाथ में जुटे लाखों श्रद्धालु
By Deshwani | Publish Date: 13/2/2018 3:27:49 PM
महाशिवरात्रि पर बाबा पातालेश्वर नाथ में जुटे लाखों श्रद्धालु

वैशाली। वैशाली जिले के हाजीपुर शहर के कटरा मोहल्ला स्थित बाबा पतालेश्वर नाथ की हर बात निराली है। इस मंदिर से सिर्फ वैशाली ही नहीं बल्कि आसपास के जिलेवासियों की भी आस्था जुड़ी हुई है।  मान्यता के अनुसार ये मंदिर तीन सौ वर्ष से भी ज्यादा पुराना है। पहले ये छोटा सा मंदिर था जो अब भव्य रूप ले चुका है। महाशिवरात्रि के मौके पर यहां लाखों की संख्‍या में श्रद्धालुओं की भीड़ जुटी। बाबा पतालेश्वरनाथ मंदिर से निकली भोलेनाथ की भव्य बारात को देखने के लिए सड़क पर आस्‍था का जनसैलाब उमड़ पड़ा। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय खुद बाबा के गाड़ीवान बनें। बारात में सैंकड़ों भूत-पिशाच शामिल हुए।

किवदंती है कि कटरा में जिस जगह ये मंदिर है वहां कभी चारों ओर जंगल था। 17-18 वीं सदी में एक वृद्ध अंधी महिला भटकते हुए यहां पहुंची और शिवलिंग से टकरा गई। इसके बाद यहां पूजा-अर्चना शुरू हो गई। कहते हैं कि यहां स्थापित शिवलिंग जमीन के कितने नीचे तक है, इसका अंदाजा आजतक नहीं लगाया जा सका है। कुछ वर्ष पूर्व मंदिर सुंदरीकरण के दौरान शिवलिंग को थोड़ा ऊपर करने की कोशिश में दस फीट तक खोदाई की गई लेकिन शिवलिंग के अंत का पता नहीं चल सका। महाशिवरात्रि के दिन यहां मंदिर और सड़कों पर आस्था का सैलाब उमड़ता है। सैलाब भी ऐसा कि सड़क पर भी कहीं पांव रखने तक की जगह नहीं मिलती। शहर के पतालेश्वर नाथ मंदिर से भगवान शिव की निकलने वाली बरात को देखने के लिए दूर-दूर से लाखों श्रद्धालु जुटते हैं। इस दौरान लगभग दस घंटे तक मानो पूरा शहर ठहर जाता है।
मंदिर के पुजारी प्रशांत तिवारी व पवन शास्त्री बताते हैं कि हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी महाशिवरात्रि को लेकर नगर के पतालेश्वर नाथ मंदिर में पूरे जोर-शोर से तैयारी की गई। यहां से निकलने वाली भगवान शिव की बारात को भव्य और खास बनाने के लिए बारात में सैकड़ों आकर्षक झांकियां, भूत-बैताल, बैंड-बाजा, हाथी-घोड़े शामिल हुए।
 
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS